दलिया खाने के फायदे और नुकसान (Daliya ke fayde Aur Nuksan In Hindi)

0
1760
Daliya ke Fayde in Hindi
Daliya ke Fayde in Hindi

दलिया खाने के फायदे (Daliya ke fayde Aur Nuksan In Hindi)

दलिया के फायदे (daliya ke fayde) कई सारे हैं और ये हमारी सेहत के लिए बहुत ही लाभप्रद होता हैं. दलिया खाने से आपके शरीर को कई प्रकार से फायदा पहुंचते हैं. हालांकि कई लोगों को ऐसा लगता है कि बीमार लोगों को ही दलिया खिलाया जाता है. परन्तु ये धारणा गलत है और दलिया सभी लोग खा सकते है. दलिये में कई प्रकार के विटामिन और प्रोटीन पाये जाते है. इसके साथ ही दलिये में लो कैलोरी और ज्यादा फाइबर भी होता और ये दोनों चीजें शरीर के लिए लाभकारी होती है. दलिया आपके शरीर में कई प्रकार के पोषक तत्वों जो की कम होते हैं उनको पूरा भी करता है.तो आइ जानते हैं दलिया खाने के फयादे, नुकसान व इससे जुड़ी अन्य जानकारी.

दलिया क्या होता है (What Is Daliya In Hindi)

दलिया एक तरह का अनाज ही होता है और यह गेंहू को पीस कर बनता हैं और ये शरीर को रोगों से लड़ने में मदद करता है. दलिया में बहुत से खनिज, विटामिन और फाइबर होते हैं, जो मनुष्य के शरीर के लिए अच्छे माने जाते हैं. दलिये में आयरन, मैग्नीशियम,जस्ता,तांबा,फास्फोरस और प्रोटीन आदि भी होते हैं.           

दलिया खाने  के फायदे (Bulgur Wheat Or daliya ke fayde)

कोलेस्ट्रॉल नियंत्रित करें

आजकल के दौर में आसानी से हर किसी को कोलेस्ट्रॉल की अधिक प्रॉब्लम हो जाती है. लेकिन शरीर में ज्यादा क्वांटिटी  में फाइबर होने से कोलेस्ट्रॉल की मात्रा को नियंत्रण में रखा जा सकता है. और दलिया में फाइबर होता हैं. इसलिए इसको खाने से कोलेस्ट्रॉल अधिक होने की प्रॉब्लम को कम किया जा सकता है. इसके साथ ही दलिया खाने से मनुष्य को दिल से संबन्धित बीमारियां भी नहीं होती है.

ये भी पढ़ें-कीवी को खाने के फायदे (Kiwi Benefits And Side Effects In Hindi)

वजन कम करे

आजकल यंग बच्चों के बीच वजन बढ़ने की प्रॉब्लम अधिक बढ़ रही हैं. वहीं दलिये को सुबह के वक्त खाने से शरीर को पूरा आहार मिलता है. क्योंकि इसमें कार्बोहाइड्रेट की सही मात्रा पाई जाती है जिससे वजन नहीं बढ़ता हैं और थोड़ा सा दलिया खाने से ही पेट भरा जाता हैं.

हड्डियों को दें मजबूती

आजकल अधिक लोगों में हड्डियां कमजोर होने की समस्या पाई जा रही है. हालांकि दलिये को रोजाना खाने से हड्डियों में मजबूती आती है. क्योंकि दलिये में मैग्नीशियम और कैल्शियम अधिक मात्रा में होते हैं. दलिया रोजाना खाने वालों को उम्र बढ़ने पर भी घुटनों में दर्द नहीं होता है. इसके साथ ही दलिया के सेवन से पथरी की परेशानी भी दूर होती है.

डायबिटीज में भी लाभकारी

दलिया और साबुत अनाज में मैग्नीशियम पाया जाता है और मैग्नीशियम कई तरह के एंजाइम बनाता है, जो इंसुलिन के बनाने में कारगर होते हैं. और साथ ही ये ग्लूकोज को भी ब्लड तक पहुंचाते हैं. रोजाना दलिया खाने से डायबिटीज होने की दिक्कत भी दूर होती है.

हीमोग्लोबिन बढ़ाए

शरीर में आयरन की मात्रा थोड़ी होने से इसका असर हीमोग्लोबिन पर पड़ता है और हीमोग्लोबिन की कमी  शरीर में हो जाती है. हीमोग्लोबिन की कमी से शरीर में कमजोरी और थकान आती है. लेकिन दलिये में आयरन की मात्रा काफी होती है, जो बॉडी में हीमोग्लोबिन की मात्रा को सही कर देता है. और ये शरीर के टेंपरेचर सहित मेटाबॉलिज्म को भी सही रखता है.

ऊर्जा का स्रोत

दलिया खाने से व्यक्ति पूरा दिन शरीर में ताकत अनुभव करता है. क्योंकि दलिये में कार्बोहाइड्रेट होता है. रोजाना इसको खाने से शरीर को कई तरह के  विटामिन और मिनरल्स आदि मिलते है.

पाचन तंत्र के लिए सही

दलिया का रोजाना सेवन करने से Digestive तत्र सही से कार्य करता है और फाइबर से भरपूर होने के कारण ये पेट के रोगों को आसानी से दूर करने में सहायता भी करता है.

एक पौष्ट‍िक भोजन है

दलिया एक प्रकार का पौष्ट‍िक भोजन है जो पोषण की सभी जरूरतों को पूरा करता है और अगर आपको ज्यादा खाना खाना पसंद नहीं है, तो आप दलिया का सेवन कर शरीर को सभी जरूरी तत्व दे सकते हैं.

इम्युनिटी सिस्टम के लिए दलिया

दलिये में पाए जाने वाले विटामिन और खनिज हमारे इम्युनिटी सिस्टम को मजबूती प्रदान करते हैं. इसलिए कमजोर इम्युनिटी सिस्टम वाले लोगों को रोजाना दलिया खाना चाहिए.

अच्छी नींद के लिए सही

इसमें मौजूद मैग्नीशियम न्यूरोट्रांसमीटर का अच्छा स्रोत हैं. जब शरीर न्यूरोट्रांसमीटर को रिलीज करता हैं, तो मन शांत होता हैं और इससे अच्छी नींद आती हैं. इसलिए जिन लोगों को नींद नहीं आती है वो इसको जररू खाएं.

दलिया खाने के नुकसान (Daliya Side Effect In Hindi)

गैस की समस्या   

दलिया एक हाई फाइबर फूड माना जाता हैं. जिसका अर्थ है इसे ज्यादा खाने से अचानक सूजन और गैस की समस्याएं हो सकती हैं. इसलिए दलिया की अधिक मात्रा का सेवन ना करें. इसके अलावा  जौ और राई में ग्लूटेन प्रोटीन पाया जाता हैं जिससे कई लोग को इसे खाने के बाद सूजन,दर्द और उल्टी हो जाती है.

कैसे बनता है दलिया (Daliya Recipe In Hindi)

दलिया को बनाने का तरीका बहुत ही आसान होता है. इसे दूध फलों और ड्राई फ्रुट के साथ बनाया जा सकता है. दलिया आप अपने स्वादानुसार बना सकते हैं जैसे कि मीठा या नमकीन. वहीं कई लोगों द्वारा इसे दूध में भी बनाया जाता है, जबकि कई लोग इसे पानी में भी बनाकर खाते हैं.

दलिया खाने का सही समय चाहिए (Daliya Kab Khana Chahiye)

दलिया बहुत ही हल्का और स्वादिष्ट आहार हैं. इसे अधिक लोगों द्वारा सुबह खाया जाता है और इसे ज्यादातर सर्दियों में पसंद किया जाता हैं. एक शोध के अनुसार यह पता चला है कि इसे खाने से अच्छी नींद आती हैं और इसे रात में खाना भी अच्छा माना जाता हैं.

दलिया खाने का सही समय सुबह और रात को माना जाता हैं. यूं तो कुछ लोग इसका सेवन दोपहर के समय भी कर लेते हैं पर इसे सहीं नही माना जाता.

दलिया में मौजूद पोषक तत्व के बारे में जानकारी (Daliya Nutrition)

   संख्या तत्व का नाम कितनी मात्रा में है मौजूद
     1 एनर्जी 83 किलो कैलोरी
    2 कार्बोहाइड्रेट 18.58 ग्राम
    3 फाइबर 4.5 ग्राम
  4 प्रोटीन 3.08 ग्राम
  5 विटामिन ए 1 आईयू
  6 विटामिन ई 0.01 मिलीग्राम
  7 कैल्शियम 10 मिलीग्राम
  8 आयरन 0.96 मिलीग्राम
  9 मैग्नीशियम मिलीग्राम
  10 फॉस्फोरस 40 मिलीग्राम
  11 पोटेशियम 68 मिलीग्राम
  12 सोडियम 5 मिलीग्राम

 

दलिया खाने से जुड़े सवाल –

रात में दलिया खाने के फायदे 

कई लोग रात को भी दलिया खाना पसंद करते हैं। रात में दलिया खाने के फायदे भी अनेख हैं और रात में इस खाने से कब्ज नहीं होती है और ना ही पेट भारी होती है। इसलिए आप रात को दलिया खाया करें।

दलिया खाने से वजन बढ़ता है

कई लोगों के मन में यही सवाल आता है कि क्या दलिया खाने से वजन बढ़ता है। इसका जवाब है नहीं, दलिया खाने से वजन पर असर नहीं पड़ता है। हालांकि दलिया खाने से शरीर को उर्जा मिलती है और शरीर मोटा नहीं होता है

मीठा दलिया खाने के फायदे

कई लोगों को मीठा दलिया पसंद होते है। मीठा दलिया खाने से भी शरीर को लाभ मिलता है और शरीर में ताकत आती है। हालांकि जिन लोगों को शुगर की बीमारी हो वो लोग मीठा दलिया खाने की जगह नमक वाला दलिया खाया करें।

जौ का दलिया खाने के फायदे

दलिया कई चीजों से बनाया जाता है। कई लोग जौ का दलिया खाते हैं। जौ का दलिया खाने से पेट हल्दी रहता है। दलिया खाने का समय बताया जाए तो इसे सुबह के समय ही खाएं

गेहूं से दलिया बनाने की विधि

गेंहू का दलिया बनाने की विधि सरल है। गेंदू को लेकर साफ कर लें और उसे धूप में सूखा दें। जब ये सूख जाए तो इसे पीस लें। अब आप गैस पर घी गर्म होने के लिए रख दें और इस घी में पीसी हुई गेहूं को डाल दें और इसे भून सें। जब ये सुनहारे रंग की हो जाए तो इसमें दूध डाल दें और 10 मिनट कर इसे पकने दें। फिर चीनी डाल दें। गेंहू का दलिया बनकर तैयार है। नमकीन दलिया बनाने की विधि भी इसी प्रकार की है, उसमें आप बस दूध की जगह पानी डालें और चीनी की जगह नमक। नमकीन दलिया बनाकर तैयार हो जाएगा।

दलिया खाने से गैस बनती है क्या ?

जी नहीं दलिया खाने से गैस की समस्या नहीं होती है।

प्रेगनेंसी में दलिया खाने के फायदे

प्रेगनेंसी के आखिरी दिनों में ही दलिया का सेवन करना उत्तम माना जाता है।

पतंजलि दलिया के फायदे

पंतजलि कंपनी की और से भी दलिया बेचा जाता है, जो कि काफी हेल्दी होता है। इसलिए आप पंतजलि दलिया भी खा सकते हैं।

दलिया की तासीर (daliya ki taseer thandi hoti hai ya garam)

कई लोग यहीं सोचते हैं कि दलिये की तासीर ठंडी होती है या गर्म (daliya ki taseer thandi hoti hai ya garam)। इसका उत्तर है कि दलिये की तासीर गर्म होती है। इसी वजह से सर्दी में दलिये का अधक सेवन करने की  सलाह दी जाती है ताकि शरीर दलिया खाने से गर्म रहे

दलिया खाने के फायदे, नुकसान (daliya ke fayde aur nuksan) और इससे जुड़े तमाम सवालों के जवाब आपको इस लेख में मिल गए होंगे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here