नहीं रहे प्रणब मुखर्जी जी, पढ़ें इनकी जीवनी (Pranab Mukherjee Biography, Death )

0
88
bharat ratna pranab mukherjee, pranab mukherjee ka jeevan parichay
bharat ratna pranab mukherjee, pranab mukherjee ka jeevan parichay

भारत रत्न प्रणब मुखर्जी जी की जीवनी (Pranab Mukherjee Biography, Pranab mukherjee ka jeevan parichay)-

Pranab Mukherjee Biography In Hindi- आज प्रणब मुखर्जी हमारे बीच में नहीं रहें हैं और इनकी मृत्यु हो गई है (Pranab Mukherjee death news) इनका निधन आज दिल्ली में हुआ है (Pranab Mukherjee death). इनकी आयु 85 साल की थी (Pranab Mukherjee age). साल 2019 में भारत के पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी जी को हमारे देश का उच्च सम्मान यानी भारत रत्न दिया गया था. 85 साल के प्रणब जी लंबे समय तक राजनीति से जुड़े रह थे और साल 2012 में ये भारत के राष्ट्रपति चुने गए थे. इनके द्वारा हमारे देश को जो सेवाएं दी गई हैं उसको देखते हुए इन्हें ये सम्मान दिया गया था. आज हम आपको प्रणब मुखर्जी की जीवनी (Pranab Mukherjee Biography in hindi) बताने जा रहे हैं.

प्रणब मुखर्जी जीवनी का परिचय ( Pranab Mukherjee Biography)

पूरा नाम (Full Name)   प्रणब कुमार मुखर्जी
जन्म तिथि (Birth Date) 1 दिसम्बर, 1935, पश्चिम बंगाल, भारत
प्रणब मुखर्जी मृत्यु (Pranab Mukherjee Death)  31 अगस्त, 2020
पेशा (Professions) राजनेता, भारक के पूर्व राष्ट्रपति
राष्ट्रीयता (Nationality) भारतीय
धर्म (Religion) हिंदू
पिता का नाम (Father’s Name) कामदा किंकर मुखर्जी
माता का नाम (Mother’s Name) राजलक्ष्मी मुखर्जी
पत्नी का नाम शुभ्रा मुखर्जी (विवाह 1957; निधन 2015)
बच्चों के नाम शर्मिष्ठा,अभिजीत और इन्द्रजीत
किस पार्टी से जुड़े थे भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस और राष्ट्रीय समाजवादी कांग्रेस (1986-1989)
कॉलेज / यूनिवर्सिटी (College / university) कलकत्ता विश्वविद्यालय
शैक्षणिक योग्यता (Educational Qualification) एमए और वकालत की डिग्री
अवार्ड भारत रत्न (2019), पद्म विभूषण (2008)

 

प्रणब मुखर्जी का व्यक्तिगत जीवन (Personal life) –

इनका जन्म बंगाली कुलीन ब्राह्मण परिवार में सन् 1935 में हुआ था और इनके पिता कामदा किंकर मुखर्जी राजनीति से जुड़े हुए थे. इनके पिता ने भारत को आजाद करवाने के आंदोलन में भाग लिया था और ये 1952 और 1964 के बीच पश्चिम बंगाल विधान परिषद के सदस्य भी थे. इनके पिता भी इनकी तरह ही भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस से जुड़े हुए थे.

ये भी पढ़ें-दीपक कलाल की सड़क पर हुई पिटाई, वीडियो हुआ वायरल (Deepak Kalal Beaten Delhi)

प्रणब मुखर्जी जी की शिक्षा (Pranab Mukherjee Education)

इन्होंने अपने राज्य के सूरी विद्यासागर कॉलेज से अपनी शिक्षा हासिल की है और इनके पास राजनीति विज्ञान और इतिहास में एमए की डिग्री है. साथ में ही इन्होंने वकालत की भी पढ़ाई कलकत्ता विश्वविद्यालय से कर रखी है.

प्रणब मुखर्जी का परिवार ( Pranab Mukherjee Family, Wife, Daughter)

साल 1957 में प्रणब मुखर्जी का विवाह हुआ था और इनकी पत्नी शुभ्रा मुखर्जी बांग्लादेश के नरेला से थीं. जब इनकी पत्नी 10 साल की थी तब वो अपने परिवार के साथ कोलकाता आ गई थी. इस शादी से मुखर्जी को तीन बच्चे हुए थे जिनमें से एक बेटी और दो बेटे हैं. इनकी बेटी एक कथक नृत्यांगना है, जबकि इनका बड़ा बेटा अभिजीत मुखर्जी, कांग्रेस के सांसद हैं और वो अपने पिता की जंगीपुर सीट से सांसद चुने गए हैं. इनके छोटे बेटे का नाम इन्द्रजीत है.

ये भी पढ़ें-करणी सेना को कंगना रनौत ने दिया जवाब, कहा परेशान किया तो तबाह कर दूंगी

प्रणब मुखर्जी का करियर ( Pranab Mukherjee Career)

राजनीति में आने से पहले प्रणब मुखर्जी जी ने अपर-डिवीजन क्लर्क के रूप में भी कार्य किया हुआ है और साथ में ही सन् 1963 में इन्होंने विद्यानगर कॉलेज में बौतर सहायक प्रोफेसर कार्य भी कर रखा है.

प्रणब मुखर्जी का राजनीति का करियर

सन् 1969 में मिदनापुर सीट पर हुए उपचुनाव में प्रणब जी ने स्वतंत्र उम्मीदवार, वी. के. कृष्णा मेनन कि मदद ये चुनाव जीतने में की थी और प्रणब जी का ये कार्य देखकर इंदिरा गांधी काफी खुश हुई थी. जिसके बाद इंदिरा जी ने इन्हें अपनी पार्टी में शामिल कर लिया और इन्हें साल 1969 में अपनी पार्टी की और से राज्यसभा भेजा. इसी तरह से ये लगातार चार बार 1975, 1981, 1993 और 1999 में इस सदन के लिए चुने गए. इस पार्टी के साथ जुड़कर प्रणब जी ने इस पार्टी को मजबूत करने के लिए कई सारे कार्य किए और ये कई बार केंद्रीय में मंत्री भी बनाए गए.

साल 2012 में बनें राष्ट्रपति ( Pranab Mukherjee As President)

कांग्रेस पार्टी की और से प्रणब जी के कार्यों को देखते हुए इन्हें साल 2012 में राष्ट्रपित बनाने के लिए चुना गया था और ये राष्ट्रपति चुनाव जीत कर हमारे देश के 13वें राष्ट्रपित बनें. इन्होंने साल 2017 तक अपनी सेवाएं हमारे देश के सबसे ऊंचे पद पर दी.

प्रणब मुखर्जी द्वारा संभाले गए पद के बारे में जानकारी

संख्या पद का नाम किस साल में संभाला
1 योजना आयोग के उपाध्यक्ष जून 1991 से मई 1996
2 केंद्रीय कैबिनेट वाणिज्य मंत्री 1993 से फरवरी 1995 तक
3 केंद्रीय विदेश मंत्री फरवरी 1995 से मई 1996
4 केंद्रीय कैबिनेट रक्षा मंत्री 23 मई 2004 से 24 अक्टूबर 2006
5 केंद्रीय कैबिनेट विदेश मंत्री 25 अक्टूबर 2006 से 23 मई 2009 तक
6 केंद्रीय कैबिनेट मंत्री वित्त 24 जनवरी 2009 से मई 2009 तक
7 केंद्रीय कैबिनेट वित्त 2009 से 26 जून 2012

 

साल 2019 में मिला भारत रत्न (Pranab Mukherjee Bharat Ratna)

प्रणब मुखर्जी के कार्य को और उनके द्वारा जो भारत को योगदान दिया गया है उसको देखते हुए इन्हें साल 2019 का भारत रत्न दिया गया है. भारत रत्न से पहले इन्हें साल 2008 में  पद्म विभूषण से भी सम्मानित किया जा चुका है.

ये भी पढ़ें-2019 के भारत रत्न और पद्म अवार्ड पाने वालों के नाम ( 2019 Bharat Ratna And Padma Awards Winners)

प्रणब मुखर्जी जी से जुड़ी अन्य बातें (About Pranab Mukherjee )

  • इन्होंने राष्ट्रपति रहते हुए कई अहम फैसले लिए थे और इन्होंने याकूब मेमन, अजमल कसाब, अफ़ज़ल गुरु सहित 24 दोषी की दया याचिका को खारिज कर दिया था.
  • साल 2015 में इनकी पत्नी का निधन हो गया था और उस वक्त इनकी पत्नी की आयु 74 साल की थी.
  • इन्होंने मिडटर्म पोल, ऑफ द ट्रैक और सागा ऑफ़ स्ट्रगल एंड सैक्रिफाइस चैलेंजेज जैसी कई किताबें भी लिख रखी हैं.
  • मुखर्जी जी को साल 2013 में आइवरी कोस्ट के राष्ट्रीय आदेश का ग्रैंड क्रॉस और साल 2016 में बांग्लादेश मुक्ति युद्ध सम्मान से सम्मानित भी किया जा चुका है.

प्रणब मुखर्जी की सेहत (pranab mukherjee health)

प्रणब मुखर्जी (pranab mukherjee news) की सेहत लंबे समय से सही नहीं चल रही थी और इन्हें हाल ही में अस्पातल में भर्ती किया गया था। जहां पर प्रणब मुखर्जी जी की ब्रेन सर्जरी हुई थी। इनकी हालात नाजुक बनी हुई थी और प्रणब मुखर्जी कोरोना वायरस से ग्रस्त भी पाए गए थी।

प्रणब मुखर्जी की मृत्यु (pranab mukherjee Death)

प्रणब मुखर्जी की मृत्यु (pranab mukherjee death) 31 अगस्त को हुई है। इनका इलाज लंबे समय से किया जा रहा था। लेकिन डॉक्टर इन्हें बचाने में सफल नहीं हो सके और प्रणब मुखर्जी हमारे बीच नहीं रहे हैं।

हम उम्मीद करते हैं कि प्रणब मुखर्जी का जीवन परिचय (pranab mukherjee ka jeevan parichay) पढ़कर आपको काफी प्ररेणा मिली होगी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here