पैसे कहां पर निवेश करें, टॉप 10 इन्वेस्टमेंट प्लान, निवेश के प्रकार (Top Investment Plan In Hindi)

0
505
Top Investment Plan In Hindi
Top Investment Plan In Hindi

निवेश क्या है, निवेश के प्रकार, टॉप 10 इन्वेस्टमेंट प्लान (Top Investment Plan In Hindi, Types of investment in hindi) 

निवेश के प्रकार और निवेश क्या है ? कैसे पैसों को निवेश (Investment in hindi) कर अधिक धन अर्जित किया जा सकता है। ये सवाल करोड़ों लोगों के मनों में आता है। लोग अपने पैसों को सही जगह पर इन्वेस्टमेंट करने के लिए विकल्पों की तलाश करते हैं और सही इन्वेस्टमेंट प्लान (Investment plan in hindi) मिलने पर वो अपने पैसे निवेश यानी इन्वेस्टमेंट कर देते हैं। सिस्टेमेटिक इन्वेस्टमेंट प्लान की मदद से आप आसानी से अपने पैसों को बढ़ा सकते हैं। अधिकांश निवेशक ऐसी जगह पर निवेश (nivesh yojana) करना चाहते हैं। जहां पर उन्हें कम जोखिम मिले और आसानी से वो निवेश कर सकें। हालांकि आप जिस जगह भी पैसे निवेश करते हैं। वहां पर जोखिम जरूर होता है। लेकिन कई निवेश (Investment in hindi) के एक विकल्प मौजूद होते हैं। जहां पर आपको अधिक जोखिम नहीं उठाना पड़ता है। अगर अपने पैसे निवेश करने के लिए सबसे बेस्ट विकल्प की तलाश में लगे हैं। तो आप इस लेखक को जरूर पढ़ लें। क्योंकि आज हम आपको टॉप 10 निवेश विकल्प (Top Investment Plan) यानी इन्वेस्टमेंट प्लान (Investment in plan hindi) बताने जा रहे हैं। जहां पर निवेश कर आप अधिक मुनाफा कमा सकते हैं।संयोजन मौजूद नहीं है।

निवेश क्या है (Investment in hindi)

निवेश क्या है (Investment in hindi) ये सवाल हर किसी के मन में जरूर आता है। दरअसल निवेश की मदद से आसानी से पैसे को बढ़ा जा सकता है। निवेश के तहत पैसों को एक ऐसी जगह पर लगाया जाता है, जहां से कम समय के अंदर ही अच्छा रिर्टन हासिल किया जा सकता है। घर में पैसे करने से उनमें वृद्धि नहीं होती है। हालांकि अगर पैसों को निवेश किया जाए तो अधिक धन अर्जित किया जा सकता है।

निवेश के प्रकार (Types of Investment In Hindi)

निवेश के प्रकार दो होते हैं जो कि वित्तीय और गैर-वित्तीय संपत्ति हैं। वित्तीय परिसंपत्तियों के तहत बाजार से जुड़े उत्पाद (जैसे स्टॉक और म्यूचुअल फंड) आते हैं और इसे निश्चित आय उत्पादों (जैसे सार्वजनिक भविष्य निधि, बैंक सावधि जमा) में विभाजित किया जा सकता है। गैर-वित्तीय संपत्ति में के तहत सोने और अचल संपत्ति में पैसे निवेश किए जाते हैं। आज हम उन शीर्ष 10 निवेशों पर एक नजर डालने वाले हैं, जो पैसे निवेश के लिए उत्तम मानी जाती है। यानी निवेश के प्रकार दो तरह के होते हैं और आप अपने हिसाब से इन दोनों प्रकार के निवेश में से किसी एक का चयन कर सकते हैं।

टॉप 10 इन्वेस्टमेंट प्लान (Top Investment Plan In Hindi)

  1. प्रत्यक्ष इक्विटी (Direct equity) व शेयर

शेयरों में निवेश करना हर किसी के लिए आसान बात नहीं है। क्योंकि ये एक अस्थिर संपत्ति वर्ग है और रिटर्न की कोई गारंटी नहीं है। इसके अलावा, न केवल सही स्टॉक को चुनना मुश्किल है, बल्कि पैसे कब निवेश करने चाहिए और कब निकालने चाहिए ये तय करना भी कठिन होते है। शेयर में पैसे निवेशक करके आसानी से कम समय में अधिक पैसे अर्जित किए जा सकते हैं और यही वजह है कि लोग शेयर में पैसे निवेश करने का विकल्प पसंद करते हैं और अपने पैसे शेयर बाजार पर लगा देते हैं। इक्विटी व शेयर में सीधे निवेश करने की एक प्रक्रिया होती है और इस के तहत सबसे पहले एक डीमैट खाता खोलना होता है। इस खाते को खोलने के बाद आप शेयरों को खरीद सकते हैं व बेच सकते हैं।

जब अब कोई शेयर खरीदते हैं और उसके दाम बढ़ जाते हैं तब आपको मुनाफा होता है। इसलिए तरह से दाम गिरने पर आपको नुकसान हो जाता है। अगर एक शेयर आप 100 रुपए मेें लेते हैं और उसकी कीमत 400 रुपए हो जाती है। तो आपको सीधा 300 रुपए का मुनाफा हो जाता है। इसी तरह से एक शेयर अगर आप 100 रुपए में लेते हैं और उसके दाम गिर कर 40 हो जाते हैं तो आपको 60 का मुनाफा होता है। शेयर खरीदने पर जब उसके दाम बढ़ते हैं तो लोग उसे बेच देते हैं। वहीं दाम कम होने पर अधिक नुकसान से बचने के लिए भी शेयर बेच दिए जाते हैं। हालांकि शेयर को आप कब बेचना चाहते हैं ये पूरी तरह आप पर निर्भर करता है।

  1. म्यूचुअल फंडों में इक्विटी (Equity mutual funds)

इक्विटी म्यूचुअल फंड योजनाएं मुख्य रूप से इक्विटी शेयरों में निवेश करती हैं। भारतीय प्रतिभूति और विनिमय बोर्ड (सेबी) म्यूचुअल फंड विनियमों के अनुसार, एक इक्विटी म्यूचुअल फंड स्कीम को इक्विटी और इक्विटी से संबंधित इंस्ट्रूमेंट्स में अपनी संपत्ति का कम से कम 65 प्रतिशत निवेश करना चाहिए। एक इक्विटी फंड को सक्रिय रूप से प्रबंधित या निष्क्रिय रूप से प्रबंधित किया जा सकता है।

इक्विटी म्यूचुअल फंड में निवेश करने से अच्छी खासी कमाई हो जाती है। इन फंड में एक फंड मैनेजर के तहत निवेश किया जाता है। इनमें रिर्टन मिलने के अच्छा chance होता है।

  1. डेट म्यूचुअल फंड (Debt mutual funds)

डेट म्यूचुअल फंड स्कीम उन निवेशकों के लिए उपयुक्त हैं जो लगातार रिटर्न चाहते हैं। ये कम अस्थिर हैं और इसलिए, इक्विटी फंडों की तुलना में इनमेें कम जोखिम भरा होता है। डेट म्यूचुअल फंड मुख्य रूप से कॉरपोरेट बॉन्ड, सरकारी सिक्योरिटीज, ट्रेजरी बिल, कमर्शियल पेपर और अन्य मनी मार्केट इंस्ट्रूमेंट्स जैसे फिक्स्ड-इंटरेस्ट जनरेटिंग सिक्योरिटीज में निवेश करते हैं।

हालांकि, डेट म्यूचुअल फंड जोखिम मुक्त नहीं हैं। इनमें ब्याज दर जोखिम और क्रेडिट जोखिम होता है। इसलिए, निवेशकों को निवेश करने से पहले इससे संबंधित जोखिमों का अध्ययन भी करना चाहिए।

  1. राष्ट्रीय पेंशन प्रणाली (एनपीएस) National Pension System (NPS)

नेशनल पेंशन सिस्टम (एनपीएस) National Pension System (NPS) एक लॉन्ग टर्म सेवानिवृत्ति है। इसमें निवेश करने से व्यक्ति को पेंशन लग जाती है। एनपीएस टियर -1 खाते में सक्रिय रहने के लिए न्यूनतम वार्षिक (अप्रैल-मार्च) योगदान 6,000 रुपये से घटाकर 1,000 रुपये कर दिया गया है। ये इक्विटी, फिक्स्ड डिपॉजिट, कॉरपोरेट बॉन्ड, लिक्विड फंड और सरकारी फंड का मिश्रण है। आपको आगे जाकर कितनी पेंशन चाहिए उसके आधार पर आप ये तय कर सकते हैं कि आप इसमें कितने पैसा निवे करना चाहते हैं।

  1. सार्वजनिक भविष्य निधि (पीपीएफ)

पब्लिक प्रोविडेंट फंड (PPF) से बहुत सारे लोग जुड़े हुए हैं। PPF में पैसे निवेश करने के बाद आपको आने वाले समय में पेंशन की चिंता नहीं होती है। इसलिए यही वजह है कि लोग अपने पैसों को पीपीएफ में निवेश करते हैं। ताकि उनका भविष्य एकदम सुरक्षित रहे और आने वाले समय में उन्होंने पैसे पेंशन के तौर पर मिलती रहे।

  1. फिक्स डिपॉजिट Bank Fixed Deposit (FD)

फिक्स डिपॉजिट एक दम जोखिम मुक्त होता है। जिसकी वजह से लोग फिक्स डिपॉजिट करते हैं। आप अपने बैंक में जाकर आसानी से फिक्स डिपॉजिट करवा सकते हैं। फिक्स डिपॉजिट होने पर बैंक आपको ब्याज देता है। आप फिक्स डिपॉजिट जितने चाहें उतने सालों के लिए कर सकते हैं। इसकी कोई सीमा नहीं होती है। डिपॉजिट इंश्योरेंस एंड क्रेडिट गारंटी कॉरपोरेशन (DICGC) के नियमों के तहत, एक बैंक में प्रत्येक जमाकर्ता को मूलधन और ब्याज राशि दोनों के लिए 4 फरवरी, 2020 से अधिकतम 5 लाख रुपये तक का बीमा किया जाता है।

इससे पहले, कवरेज मूल और ब्याज राशि दोनों के लिए अधिकतम 1 लाख रुपये था। आवश्यकतानुसार, कोई भी व्यक्ति मासिक, त्रैमासिक, अर्धवार्षिक, वार्षिक या संचयी ब्याज (Monthly, quarterly, half-yearly, yearly or cumulative) विकल्प चुन सकता है। अर्जित ब्याज दर को किसी की आय में जोड़ा जाता है और किसी की आय स्लैब के अनुसार कर लगाया जाता है।

  1. वरिष्ठ नागरिकों की बचत योजना (SCSS)

जैसा कि नाम से पता चलता है, इस योजना में केवल वरिष्ठ नागरिक या प्रारंभिक सेवानिवृत्त व्यक्ति ही निवेश कर सकते हैं। एससीएसएस का लाभ 60 से ऊपर के किसी भी डाकघर या बैंक से लिया जा सकता है। एससीएसएस का पांच साल का कार्यकाल होता है, जिसे स्कीम के परिपक्व होने के बाद तीन साल और बढ़ाया जा सकता है। ऊपरी निवेश सीमा 15 लाख रुपये है, और एक से अधिक खाते खोल सकते हैं। एससीएसएस पर ब्याज दर त्रैमासिक देय (Quarterly payable) है और पूरी तरह से कर योग्य है। याद रखें, योजना की ब्याज दर हर तिमाही की समीक्षा और संशोधन के अधीन है।

हालांकि, एक बार जब योजना में निवेश किया जाता है, तो योजना की परिपक्वता (Maturity) तक ब्याज दर समान रहता है।

  1. प्रधानमंत्री वय वंदना योजना (PMVVY)

पीएमवीवीवाई 60 वर्ष या उससे अधिक आयु के वरिष्ठ नागरिकों के लिए है, जो उन्हें प्रतिवर्ष 7.4 प्रतिशत का सुनिश्चित रिटर्न प्रदान करती हैं। ये योजना पेंशन आय देय मासिक, त्रैमासिक, अर्धवार्षिक या वार्षिक रूप से विकल्प के रूप में प्रदान करती है। न्यूनतम पेंशन राशि 1,000 रुपये प्रति माह और अधिकतम 9,250 रुपये प्रति माह है। योजना में अधिकतम 15 लाख रुपये का निवेश किया जा सकता है। योजना का कार्यकाल 10 वर्ष है। ये योजना 31 मार्च, 2023 तक है। परिपक्वता (Maturity) पर, निवेश राशि वरिष्ठ नागरिक को चुका दी जाती है। वरिष्ठ नागरिक की मृत्यु की स्थिति में, नामांकित व्यक्ति को पैसे का भुगतान किया जाएगा।

  1. रियल एस्टेट

जमीन पर पैसे निवेशन करना भी बेहद ही अच्छा रिर्टन प्रदान करती है। इसलिए अगर आप कम जोखिम निवेश विकल्प की खोज कर रहे हैं। तो आप रियल एस्टेट में निवेश कर लें। कई लोग तो जमीन पर घर बनाकर उन्होंने किराए पर भी दे देते हैं। ऐसा करने से उनक हर महीने पैसे मिलते हैं। साथ में ही जमीन के दाम भी बढ़ते रहते हैं।

  1. सोना

सोने को आभूषण के रूप में रखने की अपनी चिंताएं हैं जैसे सुरक्षा और उच्च लागत। फिर ‘मेकिंग चार्जेस’ है, जो आमतौर पर सोने की लागत के 6-14 प्रतिशत के बीच होता है (और विशेष डिजाइन के मामले में ये 25 प्रतिशत तक अधिक हो सकता है)। हालांकि सोने के सिक्के खरीदना एक अच्छा विकल्प है।

कई बैंक अब सोने के सिक्के बेचते हैं। सोने के मालिक का एक वैकल्पिक तरीका पेपर गोल्ड है। पेपर गोल्ड में निवेश अधिक लागत प्रभावी है और इसे गोल्ड ईटीएफ के माध्यम से किया जा सकता है। इस तरह के निवेश (खरीद और बिक्री) एक स्टॉक एक्सचेंज (एनएसई या बीएसई) पर होता है। जिसमें सोने की अंतर्निहित संपत्ति होती है। सॉवरेन गोल्ड बॉन्ड में निवेश करना पेपर-गोल्ड का एक और विकल्प है। एक निवेशक गोल्ड म्यूचुअल फंड के माध्यम से भी निवेश कर सकता है।

11.RBI टैक्सेबल बॉन्ड

पहले, RBI निवेश विकल्प के रूप में 7.75% बचत (कर योग्य) बांड जारी करती थी। हालांकि, केंद्रीय बैंक ने 29 मई, 2020 से इन बॉन्डों को जारी करना बंद कर दी है। इन बॉन्ड्स की शुरुआत 8 प्रतिशत बचत (टैक्सेबल) बॉन्ड 2003 की जगह 7.75 प्रतिशत सेविंग्स (टैक्सेबल) बॉन्ड्स के साथ की गई, जो 10 जनवरी से प्रभावी होंगे। 2018 में इन बांडों का कार्यकाल 7 वर्ष था।

1 जुलाई, 2020 से केंद्रीय बैंक ने फ्लोटिंग रेट सेविंग बॉन्ड, 2020 (कर योग्य) लॉन्च किया है। पहले के 7.75% बचत बांड और नए लॉन्च किए गए फ्लोटिंग रेट बॉन्ड के बीच सबसे बड़ा अंतर ये है कि नए लॉन्च किए गए बचत बांड पर ब्याज दर हर छह महीने में रीसेट की जा सकती है। 7.75% बॉन्ड में, निवेश की पूरी अवधि के लिए ब्याज दर तय की गई थी। वर्तमान में, बांड 7.15 प्रतिशत की ब्याज दर की पेशकश करते हैं। ब्याज दर पर पहला रीसेट 1 जनवरी 2021 को होने वाला है।

उपरोक्त निवेशों में से कुछ निश्चित आय वाले हैं। जबकि अन्य वित्तीय बाजार से जुड़े हुए हैं। फिक्स्ड-इनकम और मार्केट-लिंक्ड इनवेस्टमेंट दोनों की वेल्थ क्रिएशन की प्रक्रिया में भूमिका होती है। बाजार से जुड़े निवेश उच्च रिटर्न की क्षमता प्रदान करते हैं लेकिन उच्च जोखिम भी उठाते हैं। निश्चित आय निवेश, संचित धन के संरक्षण में मदद करते हैं ताकि वांछित लक्ष्य को पूरा किया जा सके। दीर्घकालिक लक्ष्यों के लिए, दोनों दुनिया का सबसे अच्छा उपयोग करना महत्वपूर्ण है। जोखिम, कराधान और समय क्षितिज को ध्यान में रखते हुए निवेश का विवेकपूर्ण मिश्रण रखें।

निवेश क्या है, निवेश के प्रकार, निवेश कैसे किया जाता है और किन जगहों पर निवेश करने से क्या रिर्टन हासिल होता है। ये सब जानकारी हमने आपको इस लेख के जरिए बताई है। हम उम्मीद करते हैं कि आपक निवेश क्या है और टॉप 10 इन्वेस्टमेंट प्लान (Top Investment Plan In Hindi) के बारे में पढ़कर ये जानकारी मिल गई होगी की आप अपने पैसे कहां निवेश करके अधिक पैसे अर्जित कर सकते हैं।

ये भी पढ़ें- इंट्राडे ट्रेडिंग टिप्स,नियम, फॉर्मूला (Intraday trading In hindi,Tips, Rules, Formula In Hindi)

ये भी पढ़ें- शेयर मार्केट क्या है, कैसे करें निवेश, इसके नियम (share market kya hai,share market in hindi)