इंट्राडे ट्रेडिंग टिप्स,नियम, फॉर्मूला (Intraday trading In hindi,Tips, Rules, Formula In Hindi)

0
1367
intraday trading ke nuksan, intraday trading Tips in Hindi,
intraday trading ke nuksan, intraday trading Tips in Hindi,

इंट्राडे ट्रेडिंग कैसे करें, इंट्राडे ट्रेडिंग टिप्स,इंट्राडे ट्रेडिंग नियम, इंट्राडे ट्रेडिंग फॉर्मूला (Intraday trading In hindi,Tips, Rules, Formula In Hindi)

इंट्रा डे ट्रेडिंग क्या है (intraday trading in hindi)

इंट्राडे ट्रेडिंग एक दिन की ट्रेडिंग होती है और इस ट्रेडिंग के तहत एक दिन के भीतर ही स्टॉक खरीदे और बेचे जाते हैं। ये ट्रेडिंग शेयरों में निवेश के लिए नहीं, बल्कि स्टॉक सूचकांकों की आवाजाही से मुनाफा कमाने के लिए की जाती है।  इंट्राडे ट्रेडिंग के तहत शेयरों की कीमतों में उतार-चढ़ाव को देखा जाता है और इस आधार पर स्टॉक खरीदे जाते हैं और जब इनमें मुनाफा होता है इन्हें तुरंत बेच दिया जाता है।

इंट्राडे ट्रेडिंग कैसे होती है (How to do intraday trading in hindi)

इंट्राडे ट्रेडिंग क्या होती है (Intraday trading In hindi) ये जानने के बाद आप ये पढ़ लें की इसे कैसे किया जाता है। इंट्राडे ट्रेडिंग डीमैट अकाउंट के जरिए होती है। आप अपने डीमैट अकाउंट में जाकर किसी भी शेयर को चुन लें और उसके बाद इंट्राडे ट्रेडिंग के ऑपशन पर क्लिक कर दें। ऐसा करने से आप उस शेयर को एक दिन के लिए खरीद लेते हैं। वहीं जब इस शेयर की कीमत उस दिन बढ़े तो आप इसे बेच दें। याद रखें कि अगर आप इस शेयर को नहीं बेचते हैं। तो ये शेयर दिन खत्म होते ही अपने आप बिक जाता है और उस समय जो कीमत शेयर की होती है वो पैसे आपको मिल जाते हैं। अगर शेयर की कीमत गिरती है तो आपको घाटा होता है। इसी प्रकार से इसकी कीमत बढ़ने पर आपको मुनाफा हो जाता है। सरल शब्दों में समझा जाए तो इंट्राडे ट्रेडिंग प्रक्रिया एक दिन की प्रक्रिया होती है।

ये भी पढ़ें- शेयर मार्केट क्या है, कैसे करें निवेश, इसके नियम (share market kya hai,share market in hindi)

इंट्राडे ट्रेडिंग कैस करे (how to do intraday trading in hindi?) अगर ये सवाल आपके मन में है तो आप इंट्राडे ट्रेडिंग की मूल बातें सबसे पहले समझें, जो कि नीचे दी गई हैं।

टिप्स फॉर इंट्राडे ट्रेडिंग इन हिंदी (intraday trading Tips in Hindi)

नीचे इंट्राडे ट्रेडिंग से जुड़े कुछ सुझाव दिए गए हैं, जो कि निवेशकों को सही निर्णय लेने में मदद करेते हैं। इंट्राडे ट्रेडिंग टिप्स (intraday trading Tips in Hindi) की मदद से आप आसानी।

  1. दो या तीन Liquid Shares चुनें
  2. प्रवेश और लक्ष्य मूल्य निर्धारित करें
  3. निचले प्रभाव के लिए स्टॉप-लॉस का उपयोग करें
  4. जब आप अपने लक्ष्य तक पहुंचते हैं तो अपना लाभ बुक करें
  5. निवेशक की तरह नहीं व्यापारी की तरह सोचें
  6. आपकी इच्छा-सूची पूरी तरह से शोध करें
  7. बाजार के खिलाफ कदम नहीं
  8. इंट्राडे ट्रेडिंग के लिए बुनियादी नियम
  9. इंट्राडे ट्रेडिंग संकेतक
  10. इंट्राडे ट्रेडिंग के दौरान लाभ कैसे करें
  11. इंट्राडे टाइम एनालिसिस
  12. इंट्राडे ट्रेडिंग के लिए स्टॉक कैसे चुनें

दो या तीन तरल शेयर चुनें

इंट्राडे ट्रेडिंग करते समय आप एक से अधिक स्टॉक भी खरीद सकते हैं। आप पूरे दिन में जितने चाहें उतने स्टॉक ले सकते है। लेकिन इस बात का ध्यान रखें की ये स्टॉक एक दिन के लिए ही होते है। इसलिए आप अधिक मुनाफा कमाने के लिए एक साथ अधिक स्टॉक ले सकते हैं।

प्रवेश और लक्ष्य मूल्य निर्धारित करें

किसी भी स्टॉक को लेने से पहले ये तय कर लें कि आपको कितने रुपए कमाने या आप कितने रुपए का नुकसान उठा सकते हैं। स्टॉक की कीमत के आधार पर आप अपने लक्ष्य को निधार्रित कर सकते हैं। सरल शब्दों में कहा जाए तो अगर आप किसी स्टॉक को एक दिन के लिए ले रहे हैं और उस स्टॉक की कीमत 300 रुपए है। तो आप ये लक्ष्य तय कर लें की आपको उस स्टॉक पर कितना मुनाफा चाहिए। जैसे ही वो मुनाफा हो जाए उस स्टॉक को बिना कुछ सोचे समझें बेच दें। इसी तरह से जब शेयर की कीमत निधार्रित हानि के लक्ष्य तक पहुंच जाए तो आप उसे बिना ज्यादा विचार किए बेच दें।

निचले प्रभाव के लिए स्टॉप-लॉस का उपयोग

इंट्राडे ट्रेडिंग में भी पैसे डूबने की संभावना बनीं रहती है। अधिक पैसों को डूबने से बचाने के लिए आप स्टॉप-लॉस का सहारा ले सकते हैं। स्टॉप-लॉस के तहत आप ने जो स्टॉक लिए होता है, आप उसपर एक लॉक लगा देते हैं और ऐसा करने से जैसे ही शेयर गिरने लगता है और आपके द्वारा लगाए गए स्टॉप लॉक पर पहुंच जाता है। तो शेयर अपने आप ही उस कीमत पर बिक जाता है। उदाहरण के लिए अगर आप किसी शेयर को 500 रुपए में लेते हैं और उसपर 450 का स्टॉप लॉक लगा देते हैं। तो वो शेयर गिरकर जैसे ही 450 की कीमत पर आ जाता है, तो वो अपने आप बिक जाता है।

जब आप अपने लक्ष्य तक पहुँचते हैं तो अपना लाभ बुक करें

इंट्राडे ट्रेडिंग को करते समय लालच मन में ना आने दें। किसी भी स्टॉक को खरीदते समय आप ये तय कर लें कि लाभ की किस कीमत पर पहुंचने पर आप इसे बेच देंगे। आप 1000 रुपए के स्टॉक पर ये लक्ष्य तय कर लें की जैसे ही इसकी कीमत 1200 रुपए होगी तो मैं इसे बेच दूंगा। कई बार ये देखा जाता है कि लोग अधिक लालच में आकर स्टॉक को बचने की जगह स्टॉक की कीमत और बढ़ने का इंतजार करने लग जाते हैं।

एक निवेशक की तुलना में एक व्यापारी बनें

इंट्राडे ट्रेडिंग करते समय आप एक व्यापारी की तरह सोचें ना कि किसी निवेशक की तरह। एक निवेशक लंबे मुनाफे के बारे में सोचता है। जबकि व्यापारी सिर्फ मुनाफा देखता है। इंट्राडे ट्रेडिंग करने वाले लोगों को सिर्फ ये देखना चाहिए कि जैसे ही मुनाफा हो वो स्टॉक को बेच दें। ना की निवेशक की तरह स्टॉक की कीमत बढ़ने का और इंतजार करें।

अपनी विश लिस्ट को अच्छी तरह से रिसर्च करें

किसी भी स्टॉक को खरीदने से पहले उसपर अच्छे से रिसर्च करना ना भूलें। रिसर्च की मदद से आपको ये पता लग जाता है कि किन स्टॉक के दाम बढ़ रहे हैं और किन के दाम गिर रहे हैं। रिसर्च करके स्टॉक लेने से आपको नुकसान होने की संभावना कम हो जाती है।

इंट्राडे ट्रेडिंग टिप्स (intraday trading Tips in Hindi,) पढ़ने के बाद आपको ये पता लग गया होगा कि आखिर कैसे आप इंट्राडे ट्रेडिंग में अच्छे से मुनाफा कम सकते हैं और किस प्रकार से खुद को अधिक हानि होने से बचा सकते हैं। इंट्राडे ट्रेडिंग टिप्स (intraday trading Tips in Hindi) जानने के बाद अब आप इंट्राडे ट्रेडिंग नियम (intraday trading rules in Hindi) को भी पढ़ लें। क्योंकि इंट्राडे ट्रेडिंग टिप्स के साथ-साथ इंट्राडे ट्रेडिंग नियम (intraday trading rules in Hindi) भी बेहद ही जरूरी हैं।

इंट्राडे ट्रेडिंग के नियम (intraday trading ke niyam)

इंट्राडे ट्रेडिंग के कुछ बुनियादी नियम होते हैं। जिनके बारे में जानकारी होना बेहद ही जरूरी होता है। इसलिए आप जब भी इंट्राडे ट्रेडिंग करें तो इन नियमों को दिमाग में जरूरी रखें। इंट्राडे ट्रेडिंग के कुछ बुनियादी नियम (intraday trading rules in Hindi,) नीचे दिए गए हैं-

बाजार का समय

इंट्राडे ट्रेडिंग में बाजार का समय बेहद ही अहम रोल प्ले करता है। इसलिए आप बाजार के समय को हमेशा ध्यान में रखें। विशेषज्ञ अक्सर लोगों को पहले घंटे के दौरान स्टॉक को ना बेचने की सलाह देते हैं। दोपहर और 1 बजे के दौरान स्टॉक की कीमत बढ़ने की संभावना अधिक हो जाती है। इसलिए आप कम से कम 1 बजे तक का इंतजार करें। क्योंकि इस समय तक स्टॉक की कीमत बढ़ने की उम्मीद अधिक होती है।

निवेश की रणनीति और उस पर टिके रहें

जब भी आप इंट्राडे ट्रेडिंग करें तो स्पष्ट योजना बना लें। व्यापार शुरू करने से पहले प्रवेश और बाहर निकलने की कीमतों को निधार्रित कर लें। संभावित नुकसान को कम करने के लिए स्टॉप लॉस ट्रिगर का उपयोग करें। ये सबसे महत्वपूर्ण इंट्राडे ट्रेडिंग नियम में से एक है। इसके अलावा, एक बार जब स्टॉक लक्ष्य मूल्य लाभ प्राप्त कर ले, तो उसे बचे दें।

प्रतिकूल परिस्थितियों में स्थिति से बाहर निकलना

जरूर नहीं है कि आप हमेशा स्टॉप-लॉस ट्रिगर का ही इंतजार करें। अगर आपको स्थितियों को देखकर ऐसा लगे की स्टॉक की कीमत गिरने वाली है। तो आप उसे स्टॉप-लॉस ट्रिगर से पहले ही बेच दें। ऐसा करने से नुकसान कम होगा।

एक बार में अधिक पैसे ना लगाएं

इंट्राडे ट्रेडिंग में अगर आपको अधिक अनुभव नहीं है तो आप एक बार में अधिक पैसे इसमें ना लगाएं। अक्सर देखा जाता है कि जो लोग इंट्राडे ट्रेडिंग पहली बार कर रहे होते हैं। वो अनुभव की कमी की वजह से अधिक पैसे खो देते हैं। इसलिए आप ये गलती ना करें और इस इंट्राडे ट्रेडिंग नियम का पालन जरूर करें। इस इंट्राडे ट्रेडिंग नियम के तहत आप शुरुआती दिनों में कम पैसे लगाएं और जब आपको अनुभव हो जाए तो अधिक पैसे लगा सकते है। हालांकि इस बात की गांरटी नहीं है कि अनुभव होने पर आपको इसमें नुकसान नहीं होगा।

इंट्राडे ट्रेडिंग का अनुभव होने पर आपको ये फायदा होता है कि आपको स्टॉक के रुझान की भविष्यवाणी करने में आसानी हो जाती है और आपको स्थित देखकर ये पता लग जाता है जिस स्टॉक पर आपने पैसे लगाएं हैं वो गिरने वाला है कि बढ़ने वाला है। इस अनुभव के आधार पर आपको सही समय पर सही फैसला लेने की ताकत मिल जाती है। इसलिए शुरूआती दिनों में कम पैसे लगाएं और जैसे अनुभव हो जाए तब अधिक पैसे लगाने का रिक्स लें।

समय दें

इंट्राडे ट्रेडिंग पर पैसे लगाने के बाद आप अपना पूरा समय इसे दें। क्योंकि आपको बार-बार ये चेक करना पड़ता है कि आपके स्टॉक की कीमत बढ़ी है कि नहीं। ये जानकारी के आधार पर ही आप स्टॉक को बेच सकते हैं। इस इंट्राडे ट्रेडिंग नियम के तहत जब भी पैसे लगाएं तो ये सुनिश्चित कर लें की आप समय इंट्राडे ट्रेडिंग को दे सकेंगे की नहीं।

इंट्राडे ट्रेडिंग फॉर्मूला

इंट्राडे ट्रेडिंग फॉर्मूला बेहद ही सरल है और इंट्राडे ट्रेडिंग फॉर्मूला के जानने के बाद आपको आसानी से लाभ होने लग जाएगा। इंट्राडे ट्रेडिंग फॉर्मूला में सही स्टॉक को चुनने पर ही आप लाभ कमा सकते हैं। वहीं अधिकतर लोगों को इस बात की जानकारी नहीं होती है कि इंट्राडे ट्रेडिंग में लाभ कैसे कमाया जा सकता है। इंट्राडे ट्रेडिंग में लाभ कामने के लिए कुछ चीजों को ध्यान में रखना होता है और इन चीजों की मदद से आप आसानी से लाभ कमा सकते हैं। इंट्राडे ट्रेडिंग में लाभ कमाने के लिए आप जिस स्टॉक को उठाना चाहते हैं उसका शोध अच्छे से करें और उसके पीछे रिकॉर्ड को देखें अगर उस स्टॉक में लाभ लोगों को मिल रहा है तो आप उसे खरीद लें।

इंट्राडे ट्रेडिंग बुक्स हिंदी पीडीएफ

इंट्राडे ट्रेडिंग पर कई सारी बुक्स लिखी गई है और इंट्राडे ट्रेडिंग बुक्स को एक बार बढ़ लें। आपको हिंदी भाषा में आसानी से इंट्राडे ट्रेडिंग बुक्स मिल जाएगी।

ये भी पढ़ें- म्यूचुअल फंड के फायदे और नुकसान (mutual fund in Hindi, mutual fund ke fayde aur nuksan)

ये भी पढ़े- मैक्स लाइफ इन्शुरन्स पॉलिसी डिटेल्स (Max Life Insurance Policy Receipt Download Process, Status, Details)

ये भी पढ़ें- पैसे कहां पर निवेश करें, टॉप 10 इन्वेस्टमेंट प्लान, निवेश के प्रकार (Top Investment Plan In Hindi)